ADVERTISEMENTS:

“Bharatendu Era” in Hindi Language

भारतेन्दु युग । “Bharatendu Era” in Hindi Language!

भारतेन्दुयुगीन काव्य की प्रवृत्तियां (विशेषताएं):

भारतेन्दु युग को आधुनिक हिन्दी साहित्य का प्रवेश द्वार माना जाता है । इस युग में हिन्दी साहित्य की प्राय: सभी विधाओं का विकास देखा जा सकता है । रीतिकालीन ब्रजभाषा के स्थान पर खड़ी बोली की प्रतिष्ठा, देश-प्रेम तथा राष्ट्रीय चेतना की भावना इस युग में स्पष्ट रूप से दिखाई देती है ।

भारतेन्दुयुगीन काव्य की विशेषताएं निम्नलिखित हैं:

1. राष्ट्रीयता की भावना ।

2. सामाजिक चेतना का विकास ।

ADVERTISEMENTS:

3. हास्य व्यंग्य ।

4. समस्या पूर्ति ।

5. अंग्रेजी शिक्षा का विरोध ।

6. विभिन्न काव्य रूपों का प्रयोग ।

ADVERTISEMENTS:

7. काव्यानुवाद की परम्परा ।

8. मुहावरों व लोकोक्तियों का प्रयोग ।

9. अलंकारों का प्रयोग ।

10. छन्दों का प्रयोग ।

ADVERTISEMENTS:



इस प्रकार स्पष्ट है कि भारतेन्दुयुगीन काव्य हिन्दी कविता का आधुनिक काल होते हुए भी एक महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है ।

भारतेन्दुयुगीन कवि:

1. भारतेन्दु हरिश्चन्द्र

2. प्रताप नारायण मिश्र

3. ब्रदीनारायण चौधरी प्रेमधन

4. अम्बिका दत्त व्यास

5. श्रीनाथ पाठक

, , ,

Kata Mutiara Kata Kata Mutiara Kata Kata Lucu Kata Mutiara Makanan Sehat Resep Masakan Kata Motivasi obat perangsang wanita