ADVERTISEMENTS:

“The Heroic Era” in Hindi Language

वीरगाथा काल । “The Heroic Era” in Hindi Language!

काल-विभाजन हिन्दी साहित्य का विकास, काव्य साहित्य से ही प्रारम्भ हुआ । आचार्य रामचन्द्र शुक्लजी ने ‘हिन्दी साहित्य के इतिहास’ में काव्य साहित्य को उनकी प्रवृतियों के आधार पर चार भागों में बांटा है ।

इन चारों कालों का क्रमानुसार विभाजन इस प्रकार है ।

1. वीरगाथा काल या आदिकाल वि॰ संवत {1050 से 1375 तक}

ADVERTISEMENTS:

2. भक्तिकाल या पूर्व मध्य युग {1375 से 1700 तक}

3. रीतिकाल (श्रुंगारकाल) वि॰ संवत् {1700 से 1900 तक}

4. आधुनिक काल {गद्यकाल} वि॰ संवत् {1900 से आज तक}

वीरगाथाकाल (आदिकाल) की प्रवृत्तियां या विशेशताएं:

संवत् 1050 से 1375 तक:  यह हिन्दी कविता का सबसे प्रारम्भिक काल है, अत: इसे आदिकाल के नाम से अभिहित किया जाता है । भावपक्ष तथा कलापक्ष की दृष्टि से इस काल की निम्नलिखित काव्य प्रवृत्तियां या विशेषताएं हैं:

ADVERTISEMENTS:

1. वीरता एवं शौर्य की प्रधानता:  चूंकि इस काल की रचनाओं में अपने आश्रयदाताओं की वीरता, शौर्य एवं पराक्रम का अधिक वर्णन मिलता है, अत: इस काल में वीरता एवं शौर्य की प्रधानता मिलती है ।

2. सन्स्पिध रचनाएं: इस काल की अधिकांश रचनाएं ऐतिहासिक दृष्टि से सन्दिग्ध हैं ।

3. ऐतिहासिकता:  (प्रामाणिकता) का अभाव-इस काल की अधिकांश रचनाएं ऐतिहासिक दृष्टि से यथार्थ के अधिक निकट नहीं हैं ।

4. रासो काव्य परम्परा:  इस काल की प्राय: सभी रचनाओं में ‘रासो’ का निर्वाह हुआ है । जैसे-पृथ्वीराज रासो, बीसलदेव रासो, परमार विजयपाल रासो ।

ADVERTISEMENTS:



5. जनसाधारण की भावनाओं की उपेक्षा:  इस काल के कवियों ने अपने ने की प्रशंसा में जनसाधारण की भावनाओं और उनकी समस्याओं की पूरी तरह से उपेक्षा की है ।

6. युद्धों का सजीव चित्रण:  इस काल की अधिकांश रचनाओं में युगीन न सजीव चित्रण में सफलता प्राप्त की है । कहा जाता है कि इस काल जन केवल काव्य रचना करते थे, अपितु युद्धक्षेत्र में जाकर युद्ध में अ उठाते थे ।

7. चारण: भाट परम्परा-इस काल के कवि लोग विशेष रूप से चारण-शाट के पोषक थे; क्योंकि वे देश-प्रदेश के विभिन्न भागों में घूम-घूमकर की गाथाओं को गा-गाकर सुनाया करते थे ।

8. अश्रियदाताओं का स्तुति गान:  इस काल के कवियों ने अधिकांशत: राजाओं का सीमा से बढ्‌कर गुणगान किया है ।

9. वीर तथा शृंगार रस की प्रधानता:  इस काल की रचनाओं में वीर रस का प्रयोग अधिक मिलता है ।

10. युद्ध, विवाह एवं आखेट:  शिकार का विशेष वर्णन मिलता है ।

11. डिंगल-पिंगल भाषा का प्रयोग:  इस काल के कवियों ने डिंगल-पिंगल भाषा (प्राकृत, अपभ्रंश मिश्रित) का प्रयोग अपनी रचनाओं में किया है ।

12. छनदों का प्रयोग:  इस काल की रचनाओं में दोहा, छप्पय या छन्द विशेषत: मिलता है । इसके अतिरिक्त दूहा, त्रोटक, तोमर ढाल आदि छन्दों में भी काव्य रचना होती थी ।

13. शब्दालंकारों की प्रचुरता:  युगीन रचनाओं में अर्थालंकार की अपेक्षा शब्दालंकार का प्रयोग विशेष मिलता है ।

14. ओजगुण प्रधान काव्य:  इस काल की रचनाओं में ओजगुण का प्रयोग विशेष रूप से हुआ है ।

वीरगाथाकाल की रचनाएं:

1 पृथ्वीराज रासो – चन्दबरदाई

2. बीसलदेव रासो – नरपति नाल्ह

3. खुमाण रासो – दलपति विजय

4. विजयपाल रासो – नल्लसिंह

5. हम्मीर काव्य रासो – शाडर्गधर

6. आल्हाखण्ड (परमाल रासो) – जगनिक

, , ,

Kata Mutiara Kata Kata Mutiara Kata Kata Lucu Kata Mutiara Makanan Sehat Resep Masakan Kata Motivasi obat perangsang wanita