Tag Archives | India

Mother Teresa in Hindi Language

मदर टेरेसा । Article on Mother Teresa in Hindi Language! यूगोस्लाविया के स्कोपजे नामक एक छोटे से नगर में मदर टेरेसा का जन्म 26 अगस्त 1910 को हुआ था । उनके पिता का नाम अल्बेनियन था जो एक भवन निर्माता थे । मदर टेरेसा का बचपन का नाम एग्नेस बोहाझिउ था । इनके माता-पिता धार्मिक […]

National Unity and Integrity in Hindi Language

राष्ट्रीय एकता व अखंडता | Article on National Unity and Integrity in Hindi Language! प्रस्तावना: हमारे देश में भिन्न-भिन्न धर्मो के लोग हिन्दू, मुसलमान, सिख, ईसाई, बौद्ध, जैन, पारसी रहते हैं जिनकी पहचान व उपासना विधि पृथक-पृथक है । यहीं विभिन्न धर्मो की विविध जातिया व उप-जातियाँ रहती हैं जिनके अपने-अपने रीति-रिवाज हैं । देश […]

Problems of Disabled in India in Hindi Language

भारत में विकलांगों की समस्या पर अनुच्छेद । Article on the Problems of Disabled in India in Hindi Language! विकलांगता चाहे शारीरिक हो या मानसिक दोनों ही जीवन को अभिशापित कर देती है। आज यह समस्या प्राय: विश्व के प्रत्येक देश में देखने की मिलती है । यह एक ऐसी समस्या है जिससे पीड़ित व्यक्ति […]

Importance of Military Education in Hindi Language

सैनिक शिक्षा का महत्व । Article on the Importance of Military Education in Hindi Language! भारत ने अनेकों वर्षों के संघर्ष के पश्चात स्वतंत्रता प्राप्त की है । न जाने कितने वीर पुरुषों के बलिदान एवं प्रयत्नों से हम अपनी गुलामी की जंजीर तोड़ सके हैं । स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात उसकी निरंतर रक्षा करते […]

Women and Politics in Hindi Language

राजनीति में महिलाओं का स्थान । Article on Women and Politics in Hindi Language! प्राचीन काल से ही समाज पुरुष प्रधान रहा है । इसमें ऐसी व्यवस्थाएँ लागू की जाती रही है जिनके रहते महिलाओं के लिए अपने उत्थान की बात तक सोचना अकल्पनीय रहा है । आधुनिक युग में ऐसी शिक्षा पद्धति को अपनाया […]

River in Hindi Language

उमड़ती हुई नदी पर अनुच्छेद । Article on the River in Hindi Language! वर्षा काल में भारत की सभी नदियों में जलस्तर बढ़ जाता है । कुछ नदियों में तो इतना जल प्रवाह हो जाता है कि वह विध्वंस उत्पन्न कर देती है । पिछले अगस्त माह में मैं अपने चाचा को मिलने गया । […]

आर्थिक उदारीकरण: भविष्य के परिप्रेक्ष्य में | Economic Liberalization in Hindi Language

विस्तार बिंदु: 1. भारतीय अर्थव्यवस्था में नियोजन का महत्व । 2. राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था में आर्थिक मंदी का दौर । 3. आर्थिक उदारीकरण की नीति का अंगीकरण । 4. उदारवाद भूमण्डलीकरण का प्रथम चरण । 5. अत्यधिक उदारता के खतरे । 6. उदारवादी अर्थव्यवस्था के चलते स्वदेशी उद्योगों पर मंडराता खतरा । 7. निष्कर्ष । स्वाधीनता […]

आर्थिक उदारीकरण और स्वदेशी उद्योग का संकट | Liberalised Economy in Hindi Language

विस्तार बिंदु: 1. भूमिका । 2. भारत में उदारीकरण की नीति का अंगीकरण । 3. उदारीकरण की प्रकृति । 4. उदारीकरण का भारतीय उद्योग-धंधों एवं कृषि पर दुष्परिणाम । 5. निष्कर्ष । वर्ष 1991 के आरम्भ से ही भारतीय अर्थव्यवस्था में एक ओर विदेशी ऋण में अत्यधिक वृद्धि, विदेशी मुद्रा भण्डार में गिरावट, सरकारी व्यय […]

उदारीकरण रोक सकेगा प्रतिभा-पलायन को ? Liberalization of Economy in Hindi

विस्तार बिंदु: 1. लगभग 25 प्रतिशत प्रतिभाएं विदेशों में बस जाना पसंद करती हैं । 2. भारत के लिए आर्थिक एवं विकासात्मक, दोनों दृष्टियों से नुकसान । 3. पलायन के लिए उत्तरदायी कारक । 4. उदारीकरण का अल्पावधिक परिणाम बहुराष्ट्रीय कंपनियों के माध्यम से प्रतिभा का और भी पलायन होगा । 5. प्रतिभाओं की वापसी […]

केवल सशक्तीकरण और अधिकार ही महिलाओं की मदद नहीं कर सकते | Indian Women in Hindi

विस्तार बिंदु: 1. भारतीय समाज एवं संविधान में महिलाओं की स्थिति । 2. महिलाओं में शिक्षा के प्रसार की आवश्यकता । 3. समाज द्वारा उसके कार्यक्षेत्र का सीमांकन । 4. बढ़ती कन्या भ्रूण हत्या और गिरता स्त्री-पुरुष अनुपात । 5. राजनीति में महिलाओं का प्रतिनिधित्व । 6. निष्कर्ष । भारत का संविधान पुरुषों और महिलाओं, […]

दहेज प्रथा: एक सामाजिक कलंक | "Dowry System: A Social Stigma" in Hindi Language

प्राचीन काल से ही मानव-समाज के विकास के साथ उसमें अनेक प्रथाएँ जन्म लेती रही हैं । भिन्न-भिन्न समाज अथवा सम्प्रदायों ने अपनी सुविधा अनुसार प्रथाओं को जन्म दिया, लेकिन किसी भी समाज की प्रथा में उस समाज का हित विद्यमान रहता था । समय के साथ मानव हित में रीति-रिवाजों अथवा प्रथाओं में परिवर्तन […]

नारी ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ कृति है | Article on Women in Hindi Language

विस्तार बिंदु: 1. नारी के गुण । 2. प्राचीन भारतीय समाज एवं धार्मिक ग्रंथों में नारी को प्राप्त सम्मानजनक स्थिति । 3. पुरुषों एवं महिलाओं की शारीरिक संरचना में प्राकृतिक अंतर । 4. नारी की शारीरिक, मानसिक एवं भावनात्मक विशिष्टताएं । 5. निष्कर्ष । नारी ईश्वर की एक अद्वितीय कृति है । नारी के अभाव […]

पर्यावरण संरक्षण की आवश्यकता | Environment in Hindi Language

विस्तार बिंदु: 1. मनुष्य की तीव्र विकास यात्रा के कारण उत्पन्न प्रदूषण की समस्या । 2. प्राकृतिक संसाधनों का अंधा-धुंध दोहन । 3. वनों की अंधा-धुंध कटाई । 4. प्रकृति की कीमत पर किए गए मानवीय विकास का परिणाम है-ग्लोबल वार्मिंग अथवा वैश्विक तापन । 5. इसके कारण समुद्र पर बसे अनेक महत्वपूर्ण देशों एवं […]

नेताजी सुभाषचंद्र बोस । Article on Subhas Chandra Bose in Hindi Language

सुभाषचंद्र बोस का जन्म २३ जनवरी, १८९७ को कटक ( उड़ीसा ) में हुआ था । सन् १९१३ में उन्होंने कलकत्ता विश्वविद्यालय की मैट्रिक परीक्षा द्वितीय स्थान प्राप्त करते हुए उत्तीर्ण की । सन् १९१४ में मन की शांति के लिए वे हरिद्वार चले गए; किंतु कुछ समय बाद वापस लौट आए । सन् १९१६ […]

पं॰ जवाहरलाल नेहरू । Jawaharlal Nehru in Hindi Language

महात्मा गांधी यदि स्वतंत्र भारत के राष्ट्रपिता हैं तो पण्डित जवाहर लाल नेहरू को आधुनिक भारत का निर्माता माना जाता है । संभ्रांत परिवार में जन्म लेकर तथा सभी तरह की सुख-सुविधा भरे वातावरण में पल कर भी उन्होंने राष्ट्रीय स्वतंत्रता एवं आन-बान की रक्षा के लिए अपना सर्वस्व त्याग दिया । पं॰ जवाहर लाल […]

भगवान महावीर स्वामी । Bhagwan Mahaveer Swami in Hindi Language

धर्म की संस्थापना करने वाले तथा सज्जन व्यक्तियों की रक्षा के लिए दुष्टों से बचने का मार्ग दिखाने वाले भगवद्स्वरूप महावीर स्वामी जी का जन्म उस समय हुआ जब यज्ञों का महत्त्व बढ़ने के कारण केवल ब्राह्मणों की ही प्रतिष्ठा समाज में लगातार बढ़ती जा रही थी । पशुओं की बलि देने से यज्ञ-विधान महंगे […]

Kata Mutiara Kata Kata Mutiara Kata Kata Lucu Kata Mutiara Makanan Sehat Resep Masakan Kata Motivasi obat perangsang wanita