Tag Archives | Literature

साहित्य और समाज का सम्बन्ध | Literature and Society in Hindi Language

साहित्य और समाज का सम्बन्ध बहुत महत्त्वपूर्ण है । जब मूह बनाकर समाज के रूप में इस पृथ्वी पर जीवन रहा है, तभी से साहित्य भी रचा जा रहा है । साहित्य लेखकों द्वारा रचा जाता है, जो मानव-समाज का न करते हैं । प्रत्येक काल के साहित्य में उस काल के मानव की विचारधारा, […]

Literature’s Influence on Life in Hindi Language

साहित्य और जीवन | Article on Literature’s Influence on Life in Hindi Language! प्रस्तावना: इस चैतन्य जीव-जगत में मानव सर्वश्रेष्ठ प्राणी है । मनुष्य में चिन्तन व अभिव्यक्ति की शक्ति उसको अन्य प्राणियों से पृथक करती है । चिन्तन शक्ति जानवरो में भी हो सकती है, परन्तु उनमें अभिव्यक्ति करने का सर्वथा अभाव है । […]

“New Poetry” in Hindi Language

नयी कविता । “New Poetry” in Hindi Language! नयी कविता की प्रवृत्तियां: नयी कविता को कुछ लोग प्रयोगवादी काव्य धारा का अलग चरण बताते हैं । सन् 1950 से नयी कविता अपने कथ्य एवं शिल्प की विशेषताओं के साथ नवीनता लिये अस्तित्व में आयी । संक्षेप में इस काल की निम्नलिखित विशेषताएं हैं: 1. नूतन […]

“Romanticism” in Hindi Language

स्वच्छन्दतावाद । “Romanticism” in Hindi Language! 1. प्रस्तावना । 2. मुख्य प्रवृत्तियां । 3. उपसंहार । 1. प्रस्तावना: हिन्दी काव्यशास्त्र में स्वच्छन्दतावाद शब्द का प्रयोग अंग्रेजी के रोमांटि-सिज्य के आधार पर हुआ है । इस शब्द की व्युत्पत्ति फ्रांसीसी भाषा के रोमांस, रोमाच्य शब्द से हुई है । इसी का विशेषण रोमांटिक है । रोमांस […]

Kata Mutiara Kata Kata Mutiara Kata Kata Lucu Kata Mutiara Makanan Sehat Resep Masakan Kata Motivasi obat perangsang wanita